Ramayana should be taught in all schools… Arun Govil, who played the character of Ram, emphasized on this issue.

पिछले कुछ समय से स्कूलों में ‘रामायण’ पढ़ाए जाने को लेकर बहस छिड़ी हुई है। कुछ महीने पहले उच्च स्तरीय राष्ट्रीय शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद (एनसीईआरटी) पैनल ने भी इसकी सिफारिश की थी। अब रामानंद सागर की ‘रामायण’ में राम का किरदार निभाने वाले एक्टर अरुण गोविल ने इस पर अपनी राय दी है. उन्होंने भी इसका समर्थन किया है और कहा है कि ‘रामायण’ को स्कूल सिलेबस में जोड़ा जाना चाहिए।

,
अरुण गोविल ने न सिर्फ रामायण को सिलेबस में शामिल करने का समर्थन किया बल्कि इसके फायदे भी गिनाए. एएनआई से बात करते हुए अरुण गोविल ने कहा, ”रामायण को हमारे पाठ्यक्रम में शामिल किया जाना चाहिए क्योंकि रामायण हमारा जीवन दर्शन है। इसे धार्मिक कहने का कोई औचित्य नहीं है।” गोविल ने कहा कि रामायण हमें रिश्तों, धैर्य और शांति पाने के तरीके के बारे में बताती है। उन्होंने कहा कि रामायण सिर्फ सनातनियों के लिए नहीं, सबके लिए है। इसलिए इसे स्कूलों में पढ़ाया जाना चाहिए।

रामायण के अलावा अगर बात करें तो स्कूलों में सामाजिक विज्ञान के पाठ्यक्रम को संशोधित किया जा रहा है। इसके लिए एनसीईआरटी की सामाजिक विज्ञान समिति ने भारतीय ज्ञान प्रणाली, वेद और आयुर्वेद को किताबों में शामिल करने का प्रस्ताव दिया है। अब अगर अरुण गोविल की बात करें तो उन्हें आज भी भगवान राम की तरह पूजा जाता है। लोग आज भी उन्हें भगवान की छवि के रूप में देखते हैं।

,
22 जनवरी को अयोध्या में आयोजित राम मंदिर प्राण प्रतिष्ठा समारोह में अरण गोविल, ऑनस्क्रीन सीता दीपिका चिखलिया और लक्ष्मण सुनील लाहिड़ी के साथ शामिल हुए थे। जैसे ही ये तीनों अयोध्या पहुंचे, लोगों की भीड़ जमा हो गई। लोगों ने उनका आशीर्वाद लिया. सोशल मीडिया पर कई वीडियो भी सामने आए।


source

Rate this post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button