Cash for Query: महुआ मोइत्रा के खिलाफ CBI जांच का दावा, टीएमसी सांसद बोलीं- आओ मेरे जूते गिन लो…

Cash for Query: संसद में कैश लेकर सवाल पूछने के मामले में महुआ मोइत्रा के खिलाफ सीबीआई जांच का आदेश दिया गया है। लोकपाल ने महुआ मोइत्रा के खिलाफ जांच का आदेश दिया है। महुआ मोइत्रा पर लगे आरोपों को भ्रष्टाचार का मामला माना गया है और उसकी गहनता से जांच के लिए ही सीबीआई जांच का फैसला लिया गया है।

निशिकांत दुबे ने कहा कि मेरी शिकायत पर लोकपाल ने महुआ के खिलाफ जांच का आदेश दिया है। महुआ मोइत्रा पर गौतम अडानी ग्रुप को लेकर संसद में पैसे लेकर सवाल पूछने का आरोप है।

इस संबंध में निशिकांत दुबे ने स्पीकर ओम बिरला को शिकायत भेजी थी। निशिकांत दुबे के दावे पर महुआ मोइत्रा ने भी ट्वीट किया है। उन्होंने लिखा, ‘एजेंसी का स्वागत है। आइए और मेरे जूते गिनिए।’

इस मामले में संसद की एथिक्स कमेटी ने निशिकांत दुबे और महुआ के पूर्व पार्टनर जय अनंत देहदराई से पूछताछ की थी। इसके बाद उसने महुआ मोइत्रा को भी बुलाया था, लेकिन कमेटी में पेशी के दौरान ही बवाल हो गया और महुआ मोइत्रा वॉकआउट कर गईं।

महुआ मोइत्रा हुई थी पूछताछ

इसे लेकर महुआ ने आरोप लगाया था कि उनसे निजी सवाल पूछे गए और यहां तक पूछा गया कि आप रात को किससे बात करती हैं। इस पर निशिकांत दुबे ने कहा था कि महुआ झूठे आरोप लगा रही हैं। यदि उनकी बात सही साबित हुई तो मैं राजनीति से संन्यास लेने के लिए भी तैयार हूं।

निशिकांत दुबे ने ट्वीट किया, ‘मेरी शिकायत के आधार पर लोकपाल ने महुआ के खिलाफ सीबीआई जांच का आदेश दिया है। उन्होंने अपने भ्रष्टाचार के जरिए राष्ट्रीय सुरक्षा से भी समझौता किया।’

बता दें कि इस मामले में कारोबारी दर्शन हीरानंदानी का कबूलनामा भी आया था। उन्होंने एफिडेविट देकर माना था कि महुआ मोइत्रा को उनकी ओर से अडानी को लेकर सवाल पूछने पर कैश और गिफ्ट दिया गया।

यही नहीं संसद में मोइत्रा की लॉगइन आईडी तक एक्सेस की बात भी कही गई। एक रिपोर्ट के मुताबिक 47 बार महुआ की आईडी पर किसी अन्य आईपी एड्रेस से लॉग इन किया गया। इसे भाजपा ने राष्ट्रीय सुरक्षा से खिलवाड़ भी बताया था।

Facebook PageClick Here
WebsiteClick Here
Rate this post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button